स्त्री और पुरुष के दाहिने और बाएं गर्दन का फड़कना शुभ है या अशुभ | gardan ka fadkana

आज हम गर्दन या गला फड़कना, दाहिनी गर्दन का फड़कना, बाई गर्दन का फड़कने के की बारे में जानेंगे। गर्दन फड़कने से क्या होता है। क्या यह शुभ है या अशुभ इसके बारे में विस्तार से जानेंगे।

प्रत्येक अंग का फड़कना कोई न कोई संकेत देता है। जो कि आने वाले निकट भविष्य में हमारे साथ घटित होने वाला होता है। कभी-कभी अंगों का फड़कना अनेकों कारण से भी हो सकते हैं। लेकिन वह लगातार कुछ समय तक फड़क रहा है। तो इसका अर्थ है। कि आने वाले निकट भविष्य में हमारे साथ कोई शुभ या अशुभ घटना घटित होने वाला है।

आज हम गर्दन के फड़कने के बारे में जानेंगे। अगर किसी भी व्यक्ति का गर्दन लगातार फड़क रहा है। तो वह आने वाले निकट भविष्य में किसी बात का संकेत आपको दे रहा है।

यह गर्दन का फड़कना अलग-अलग हिस्सों में हो सकता है। इसलिए यहां पर हम प्रत्येक हिस्से के बारे में बात करेंगे। जिससे आपको अपने फड़कते हुए गर्दन का अर्थ आसानी से समझ में आ जाए।

पुरुष के दाहिने अंग का फड़कना शुभ माना गया है। और वही स्त्री का बाया अंग फड़कना शुभ माना गया है। इसलिए यहां पर पुरुष के अंगों के बारे में बताया जा रहा है। जोकि पुरुष के दाहिने अंग का फल होगा, उसी को स्त्री के बाएं अंग का फल समझे।

गर्दन का फड़कना

गर्दन का फड़कना तो शुभ होता है। यह खुशहाली और मान सम्मान का संकेत है। लेकिन अगर गर्दन के अलग-अलग हिस्सों में फडकन होने लगे तो इसका अर्थ बदल जाता है। जो कि प्रत्येक हिस्सों के बारे में नीचे बतलाया गया है।

दाहिनी गर्दन का फड़कना

अगर किसी व्यक्ति का दाहिनी तरफ गर्दन में फड़कन होता है। अर्थात दाहिने गर्दन फड़कता है, तो यह बेहद शुभ माना जाता है। क्योंकि दाहिनी गर्दन का फड़कना सफलता का सूचक होता है।

बाई गर्दन का फड़कना

अगर किसी व्यक्ति का बाएं गर्दन में फडकन होता है। तो यह शुभ नहीं कहा जाएगा। क्योंकि पुरुष के बाएं तरफ अंग का फड़कना शुभ होता है। इसलिए बाय गर्दन का फड़कना कार्यों में असफलता को सूचक है।

लेकिन स्त्री के बाएं गर्दन का फड़कना शुभ होता है। जोकि सफलता का सूचक होता है।

https://youtu.be/67XOeT-p_kU

      You cannot copy content of this page

      Mangal Muhurt - Astrology News
      Logo