close

शमी के पौधे का महत्व, लाभ, पूजा, शुभ दिशा और शुभ-अशुभ बातों के बारे में संपूर्ण जानकारी

आज हम शमी के पौधे से संबंधित सभी बातों को जानेंगे। कि शमी का पौधा लगाना क्यों शुभ माना जाता है? उसको किस दिशा में, किस जगह लगाना शुभ होता है? क्योंकि शमी का पौधा तुलसी के पौधे के समान ही पवित्र माना जाता है। इसलिए शमी के पौधे की पूजा भी की जाती है। इसलिए यहां पर शमी के पौधे से संबंधित सभी बातों को ध्यान में रखकर आपको बताया जा रहा है। जिससे आप शमी के पौधे से संबंधित सभी बातों को जान सके।

शमी का पौधा कैसा होता है?

शमी का पौधा छुईमुई पौधे की तरह ही दिखाई देता है। शमी के पौधे में छोटे-छोटे कांटे होते हैं। और इसकी पत्तियां काफी बारिक होती हैं।

असली शमी के पौधे की पहचान कैसे करें?

असली शमी का पहचान करने के लिए आप कोई खास तरीका तो नहीं है। लेकिन शमी का जो पौधा होता है वह 9 से 18 मीटर ऊंचा, मध्य आकार का और प्रतीक समय हर रहने वाला होता है। शमी के बीच में छोटे-छोटे कांटे होते हैं। इसकी शाखाएं पतली और भूरे रंग की झुकी हुई होती है। असली शमी का छाल भूरे रंग का फटा हुआ और खुरदुरा होता है।

शमी के पौधे लगाने का महत्व क्या है?

हमारे हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बेहद पवित्र माना जाता है। तुलसी के पौधे की पूजा भी की जाती है। तुलसी के समान ही एक और पौधा है। जो बेहद पवित्र माना जाता है। उस पौधे का नाम है। शमी का पौधा भगवान भोलेनाथ को बेहद प्रिय है। इसलिए शमी के पौधे का महत्व अधिक बढ़ जाता है। शमी के पौधे को घर में लगाने से घर में बुरे प्रभाव का अर्थात नकारात्मक ऊर्जा का वास नहीं होता है।

शमी का पौधे लगाने के फायदे क्या है?

शमी का पौधा भगवान भोलेनाथ को प्रिय होने के साथ ही इसके अनेकों प्रभाव है। जिससे आपके घर में चल रहे नकारात्मक ऊर्जा को भी नष्ट कर देता है। शमी के पौधे घर में होने से सुख समृद्धि आती है। आर्थिक तंगी भी दूर हो जाती है। परिवार में चला रहा क्लेश में खत्म हो जाता है। जिस व्यक्ति के विवाह में अड़चन आती हैं। वह अड़चनें भी खत्म हो जाती हैं। और साथ में ही शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से के प्रकोप से भी बचा जा सकता है।

शमी का पौधा कैसे लगाना चाहिए?

अब हम जानेंगे कि शमी का पौधा कैसे लगाया जाता है। शमी का पौधा लगाने के लिए साफ मिट्टी का प्रयोग किया जाना चाहिए। आप जिस गमले में शमी का पौधा लगा रहे हैं। वह गमला साफ होना चाहिए या आप बिना गमले की ही धरती में लगा रहे हैं। तो वहां धरती साफ-सुथरी होना चाहिए। जहां पर कोई थूकता ना हो। और कोई गंदगी भी ना हो, क्योंकि शमी के पौधे को बेहद पवित्र पौधा माना जाता है। इस पौधे पर देवी देवताओं का वास होता है। इसलिए इस पौधे को साफ सुथरे स्थान पर ही लगाएं।

शमी का पौधा गमले में कैसे लगाएं?

गमले में शमी का पौधा लगाने के लिए गमले में शुद्ध मिट्टी भरे। उसके बाद शमी का पौधा लगा दे। और उसी मिट्टी में सुपारी और सिक्का डालकर दबा दें। उसके बाद गंगाजल गिराए। शमी के पौधे को रोजाना पूजा करते रहें। और जल देते रहें। यही विधि धरती में भी लगाने के लिए किया जाएगा।

शमी का पौधा कौन से दिन लगाना चाहिए?

शमी का पौधा भोलेनाथ और शनि देव को बेहद पसंद है। इसलिए शमी का पौधा शनिवार के दिन लगाएं। इससे शनि के प्रकोप से भी आप बच सकते हैं। यहां पर शनि के प्रकोप को खत्म करने की बात नहीं कहा जा रहा है। केवल शनि के प्रकोप को कम करने की बात कहा जा रही है।

शमी का पौधा घर में कहां लगाना चाहिए या नहीं?

शमी का पौधा घर के अंदर नहीं लगाना चाहिए। इसे केवल घर के बाहर ही लगाना चाहिए।

शमी का पौधा कहां लगाएं?

वास्तु शास्त्र के अनुसार शमी के पौधे को मेन गेट के बाई तरफ लगाना चाहिए। जिससे घर में रहने वाले सदस्य के घर से बाहर निकलते समय दाहिने तरफ पड़ता हैं।
अगर आप कोई ऐसी जगह रहते हैं। जहां पर आप मेन गेट पर शमी का पौधा नहीं लगा सकते हैं। तो उसके लिए आप अपने घर के छत पर दक्षिण दिशा या पूर्व दिशा में लगा सकते हैं।

शमी का पौधा किस दिशा में लगाना चाहिए?

शमी के पौधे को लगाने के लिए कोई दिशा निर्धारित नहीं है। इसे केवल उसी दिशा में लगाना चाहिए। कि जब आप घर से बाहर निकले तो, आपकी यह दाहिनी तरफ पड़े। अगर घर के बाहर लगाने की जगह ना हो तब आप उसे छत पर दक्षिण या पूर्व दिशा में लगा सकते हैं।

शमी के पेड़ की पूजा कैसे करनी चाहिए?

शमी के पेड़ की पूजा आप प्रत्येक दिन कर सकते हैं। जब आप अपने मंदिर में पूजा करते हैं। तो पूजा करने के बाद आप शमी के पेड़ में भी जल अर्पित करें। इसके बाद लाल रंग के पुष्प को भी अर्पित करें। घी या तिल के तेल का दीया जलाएं। अब धूप, दीप, अगरबत्ती करने के बाद हाथ जोड़कर अपनी मनोकामना के बारे में कहे, इससे आपकी मनोकामना जल्द पूर्ण हो जाएगी।

शमी का पौधा कब लगाना चाहिए?

शमी के पौधे को दशहरे के दिन घर पर लगाना शुभ माना जाता है। इसे शनिवार के दिन आप लगा सकते हैं। लेकिन शमी का पौधा कभी भी घर के अंदर नहीं लगाना चाहिए। इसे केवल घर के बाहर ही लगाना शुभ होता है। या घर के बाहर जगह न मिलने पर उसे छत पर लगाना चाहिए।

शमी के पूजा का विशेष कृपा पाने का उपाय

इसकी विशेष कृपा पाने के लिए शाम के समय जब हम मंदिर में दिया लगाते हैं तब हमें शमी के पौधे की भी पूजा करनी चाहिए और उसके पास भी दिया लगाना चाहिए जिससे हमारी आर्थिक तंगी दूर होती है और आर्थिक स्थिति मजबूत होती हैं।

शमी का पौधा सूख जाए तो क्या करें?

शमी का पौधा सूखना शुभ नहीं माना जाता है। क्योंकि शमी का पौधा सूखने का अर्थ है। कि आपके ऊपर शनि का प्रकोप है। जो कि आपके कार्यों में बाधा बढ़ने वाला है। जिससे आपको धन हानि हो सकता है। इसलिए अगर आपका शमी का पौधा सूख गया। तो आप वहां पर दूसरा पौधा लगा दे, यही उचित होगा।

https://youtu.be/5jHllkA1j3w

      You cannot copy content of this page

      Mangal Muhurt
      Logo